आँखों के इन्फेक्शन के लिए उपाय | Home Remedies For Eye Infection

आँखों का इन्फेक्शन / Eye Infection एक साधारण समस्या है जो हर उम्र के लोगो में होती है। यह इन्फेक्शन बैक्टीरिया, वायरस, एलर्जी या दूसरे माइक्रोबायोलॉजिकल प्रभाव की वजह से हो सकता है। इन्फेक्शन कभी एक आँख या फिर दोनों आँखों में भी हो सकता है।

आँखों के इन्फेक्शन के कुछ संकेत आँखों से ज्यादा आँसू निकलना, आँखों का बार-बार लाल हो जाना, आँख की पलकों का सूजना, दर्द होना, खुजलाहट होना और आँखों में कुछ चुभना, यही आँखों के संक्रमण के कुछ संकेत है। यह संकेत संक्रमण के अनुसार कम-ज्यादा या बदल भी सकते है।
साधारणतः आँखों के इंफेक्शन से कोई परमानेंट क्षति नही पहोचति लेकिन कई बार यदि इसकी तरफ ध्यान ना दिया जाए तो आपको गंभीर बीमारी भी हो सकती है।

आँखों के इन्फेक्शन के लिए घरेलु उपाय / Home Remedies For Eye Infection
Home Remedies For Eye Infection


इसीलिये जब भी आपको अपनी आँखों में असुविधा का अनुभव हो तब तुरंत सबसे पहले अपने डॉक्टर से आँखों की जाँच अवश्य करवा ले। क्योकि लंबे समय तक संक्रमण के रहने से आँखों के रेटिना, रक्त नलिका और कॉर्निया को भी क्षति पहोच सकती है।

आँखों के इन्फेक्शन के बहोत से प्रकार होते है, जैसे की -

1. नेत्रशोथ या गुलाबी आँखे / ophthalmia Or pink eye -
यह इंफेक्शन आँखों के लाल ही जाने और इर्रिटेशन की वजह से होता है। साधारणतः यह वायरस से ही फैलता है लेकिन कभी-कभी बैक्टीरियल और एलर्जिक रिएक्शन की वजह से भी यह समस्या हो सकती है।

2. आँख की बिलनी –
यह स्टेफ्लोकोकल् बैक्टीरिया की वजह से होती है जो आपकी त्वचा के ऊपरी भाग पर होती है। यह बैक्टीरिया आँख की पलकों पर सुजन का बनाता है। यह सुजन दर्दभरी हो सकती है।

3. ब्लेफरिटिस (Blepharitis) -
यह तब होता जब आपको की पलकों के निचे हल्का तेल दिखाई देता है और आँखों पर बोझ बनकर उन्हें संक्रमित करता है। इससे आपकी आँखों में खुजलाहट और जलन जैसी समस्या हो सकती है। इससे आँखों में अचानक आँसु भी आने लगते है और ऐसा लगता है जैसे आँखों में कुछ चला गया हो।

4. नेत्रगुहा संबंधी सेलउलिटिस् (Cellulitis) –
इस तरह के बैक्टीरियल इन्फेक्शन में आँखों के आसपास टिश्यू जमा होकर आँखों को संक्रमित करते है। यह एक गंभीर संक्रमण है और इससे आपको आँखों संबंधी गंभीर समस्या हो सकती है।

5. केराटिटिस -
इस तरह के इन्फेक्शन में बैक्टीरिया, वायरस, फंगी और परसिट्स होते है, और इस तरह के संक्रमण से आपकी आँखों के कॉर्निया को भी क्षति पहोच सकती है।

6. डैर्योकयस्टिटिस ( dacryocystitis) –

यह इन्फेक्शन आँखों की नलिका या वाहनी में होता है। प्रतिरक्षा तंत्र में कमी, मानसिक आघात, सर्जरी, हानिकारक केमिकल्स का अनावरण और कमजोर हाइजीन की वजह से बहोत से हानिकारक आँखों के संक्रमण हो सकते है।
आँखों के कुछ साधारण इंफेक्शन से बचने के लिए आप कुछ घरेलु उपायो को भी अपना सकते हो।

यहाँ निचे आँखों के इंफेक्शन (संक्रमण) से बचने के मुख्य कुछ घरेलु उपाय दिए गए है / Home Remedies For Eye Infection -

1. गर्म पट्टी -
आँखों की बिलनी या नेत्रशोथ के लिए यह सबसे प्रभावशाली घरेलु उपाय है। ऐसा करने से आँखों के आस-पास का ब्लड सर्कुलेशन बढ़ेगा और आँखों को गरमाहट मिलेगी। यह आँखों की सुजन और आँखों में होने वाले दर्द को भी कम करता है और आँखों में होने से संक्रमण से बचाता है।

1. साफ़ और मुलायम टॉवल को गर्म पानी में भिगोए और भिगोने के बाद उसे निचोड़कर ज्यादा के पानी को निकाल ले।
2. इस गर्म टॉवल को अपने हाथो में लेकर कम से कम 5 मिनट तक आँखों की पलकों पर रखे।
3. इस प्रक्रिया को कुछ समय तक दोहराते रहे।
4. आँखों की पलकों पर बैठे कचरे या तेल को भी आप इस गर्म टॉवल से साफ़ कर सकते है।
5. जब तक आपको आरामदायक महसुस नही होता तब तक दिन में कई बार इस प्रक्रिया को दोहराए।
नोट - यदि इंफेक्शन दोनों आँखों में हो तो दोनों आँखों पर गर्म टॉवल को रखे।

2 सलाइन सोल्युशन -
आँखों के इंफेक्शन को कम करने के लिए आप घर पर बने सलाइन सोल्युशन का उपयोग भी कर सकते हो। यह आपकी आँखों के लिए लाभदायक साबित होगा और आँखों की सुजन, खुजलाहट और दर्द की समस्या को भी दूर करेगा।
यह आँखों में जमे मलबे को भी दूर करेगा और संक्रमण से बचायेगा।
1. 1 चम्मच नमक 1 कप पानी में मिलाये।
2. मिश्रण को गर्म करे और फिर पूरा ठंडा होने दे।
3. इससे संक्रमित आँख की धुलाई करे।
4. यह घरेलु उपाय दिन में दो बार जरूर करे।
नोट - हो सके तो शुद्ध पानी का ही उपयोग करे क्योकि साधे पानी में केमिकल या अशुद्धियाँ हो सकती है।

3. कॉलोइडल सिल्वर -
कॉलोइडल सिल्वर का उपयोग भी आँखों की जलन और सुजन को कम करने के लिए किया जाता है। वायरल और बैक्टीरियल इंफेक्शन के समय यह प्रभावशाली साबित हो सकता है।
इसमें कुछ सिल्वर के अनु पानी में मिलाये जाते है और उसका उपयोग आयड्रॉप के रूप में किया जाता है। आप संक्रमित आँख में इस आयड्रॉप को डाल सकते हो।
1. कॉलोइडल सिल्वर की 2 बुँदे एक-एक आँख में डाले और जल्दी से आँखों को बंद करे और 1-2 सेकंड बाद खोले। जबतक इंफेक्शन पूरी तरह चला नही जाता तबतक इस प्रक्रिया को दोहराते रहे।
2. खुजलाहट से बचने के लिए कॉलोइडल सिल्वर ऑइंटमेंट ख़रीदे और उसे खुजलाहट वाले भाग पर लगाये।

4. शहद
शहद एक एंटीबैक्टीरियल तत्व है जो आँखों को नुकसान पहुचाने वाले हानिकारक बैक्टीरिया को ख़त्म करता है।
शहद में पाए जाने वाले एंटीबैक्टीरियल का सीधा असर दृष्टी सम्बंधित अंगो पर होता है जिससे आँसू और मैंबोमिअन ग्लैंड सम्बंधित बीमारियाँ दूर होती है।
बेहतर परिणाम के लिए मनुका शहद और जैविक शहद का उपयोग करे।
- अच्छी तरह से शहद और शुद्ध पानी को समान मात्रा में मिला लीजिये। साफ़ कपास के टुकड़े की सहायता से इसे अपनी आँखों पर लगाइये। जबतक संक्रमण पूरी तरह दूर नही हो जाता तब तक इस प्रक्रिया को दिन में 2 से 3 बार दोहराए।
- आप सीधे शहद की बून्द को आँखों में भी डाल सकते हो। इससे आपके प्राकृतिक आँसु जरूर निकलेंगे लेकिन आँखों में जमी धूल और जमा हुआ मलबा बाहर निकल आएगा। इस प्रक्रिया को दिन में 2 से 3 बार करे।

5. ग्रीन टी -
ग्रीन टी में टैनिक एसिड से भरी होती है जो आपकी आँखों को संक्रमण या इंफेक्शन से दूर ही रखती है। आँखों में हो रही खुजलाहट और जलन से भी यह छुटकारा दिलाती है। इसमें बहुत से न्यूट्रिएंट्स और एंटीऑक्सीडेंट होते है जो आँखों को स्वस्थ रखते है।
1. 2 ग्रीन टी बैग को गर्म पानी में कुछ सेकंड तक भिगोए रखे।
2. अब बैग को पानी में से निकाल ले और दोनों को (टी और टी बैग) फ्रिज में ठंडा होने के लिए रख दे।
3. सबसे पहले ठंडी टी का उपयोग अपनी आँखों को साफ़ करने के लिए कीजिये।
4. और फिर ठंडी टी बैग को अपनी दोनों बंद आँखों पर 10 से 15 मिनट तक रखे।
5. जबतक संक्रमण कम नही हो जाता तबतक दिन में 2 से 3 बार इस प्रक्रिया को दोहराए।
ग्रीन टी बैग की जगह पर आप ब्लैक टी बैग का उपयोग भी कर सकते हो।

6. बोरिक एसिड -
बोरिक एसिड आँखों के संक्रमण संबंधी समस्या जैसे आँखों का लाल होना, सुखी दिखना, आँखों में जलन होना और आँसु बहना जैसी समस्याओ को दूर करता है। इसमें पाए जाने वाले एंटी-बैक्टीरियल और एंटी-फंगल तत्व आँखों को इंफेक्शन से बचाये रखते है।
1. 1/8 चम्मच मेडिकल ग्रेड बोरिक एसिड को 1 कप फ़िल्टर पानी में मिलाइये।
2. मिश्रण को गर्म कीजिये और फिर इसे ठंडा होने दीजिये।
3. बादमे इसे मुलायम कपडे की सहायता से मिला ले।
4. इस मिश्रण का उपयोग आँखों को धोने के लिए करे।
5. दिन में कम से कम 3 बार इस प्रक्रिया को दोहराए। हर बार ताज़े मिश्रण का ही उपयोग करे।
नोट - पहली बार लगाते समय आपको हल्की सी जलन हो सकती है लेकिन कुछ समय बाद यह जलन चली जाएँगी।

7. एप्पल साइडर विनेगर -
गुलाबी आँखों जैसी समस्या के लिए एप्पल साइडर विनेगर सबसे प्रभावशाली है। इसमें पाया जाने वाला मैलिक एसिड एंटी-माइक्रोबियल की तरह काम करता है और आँखों के बैक्टीरिया से बचाता है। यह आँखों के मलबे और हानिकारक जर्म्स को भी दूर करता है।
1. 1 चम्मच एप्पल साइडर विनेगर को 1 गिलास फ़िल्टर पानी में मिलाइये।
2. बने सोल्युशन में कपास के टुकड़े को डूबाइये।
3. इसका उपयोग संक्रमित आँख को अंदर और बाहर से साफ़ करने के लिए ही कीजिये।
4. इस प्रक्रिया को कुछ घंटो बाद दोहराते रहे।

8. स्तनों का दूध -
यह उपाय सबसे प्रभावशाली और सुरक्षित है। स्तनों के दूध में एंटीबॉडीज, इम्युनोग्लोब्युलिन E होता है जो विशेषतः आँखों की परत को सुरक्षित रखकर आँखों में जाने वाले हानिकारक बैक्टीरिया को मारता है।
1. एक कप में थोडा स्तनों का दूध लीजिये।
2. साफ़ आयड्रॉपर की सहायता से स्तनों के दूध की 2 से 3 बुँदे संक्रमित आँख में डाले।
3. हर 2 से 3 घंटे के बीच में इस प्रक्रिया को जरुरत पड़ने पर दोहराए।
छोटे बच्चों में या शिशुओ में होने वाले आँखों के इंफेक्शन के लिए स्तनों का दूध सबसे प्रभावशाली माना जाता है।

टिप्स -
1. अपनी आँखों को मजबुत बनाने और साफ़ रखने के लिए रोज़ ठन्डे पानी से अपनी आँखों को धोना चाहिए।
2.इंफेक्शन से बचने के लिए आप डॉक्टर की सलाह पर आयड्रॉप भी ले सकते है।
3. दिन में दो बार तो भी अपनी आँखों को गुलाब जल से धोना चाहिए। आप गुलाब जल का उपयोग आयड्रॉप की तरह भी कर सकते हो।
4. संक्रमण के समय कई दिनों तक कॉन्टेक्ट लैंस न पहने।
5. अपने हातो को साफ़ किये बिना संक्रमित आँखों को नही छूना चाहिए।
6. आँखों के इंफेक्शन से बचने ले लिए अपना टॉवल या रुमाल शेयर नही करना चाहिए।
7. संक्रमण के समय आँखों का मेकअप नही करना चाहिए।
8. यदि आँखों का संक्रमण कुछ दिनों में दूर नही होता तो आपको अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लेनी चाहिए।

Read More :- Health tips

दातो को स्वस्थ रखने के कुछ आसान उपाय

अगर आपको हमारा आँखों के इन्फेक्शन के लिए उपाय /Home Remedies For Eye Infection लेख अच्छा लगा तो जरुर हमें कमेन्ट के माध्यम से बताएं. और Facebook पर लाइक करके हमसे जुड़ें. धन्यवाद

7 comments:

  1. आखों के इन्फेक्शन के बारेमें बहुत लाभदायक जानकारी दी आपने आजकल प्रदुषण बहोत बढ़ गया हैं और ऐसे में बाहर तो निकलना ही पड़ता हैं.
    आशा हैं की आपकी ये जानकारी सभी को बहुत फायदेमंद साबीत होंगी.

    ReplyDelete
  2. gitika joshi11/19/16, 10:15 PM

    Is sweet soda same effect of Boric acid .can we use khane Ka soda instead of boric acid

    ReplyDelete
  3. hmmm very informative

    ReplyDelete
  4. Thanks you very much for sharing these tips

    ReplyDelete
  5. Nice Post, Its really informative article. Thanks for sharing.

    ReplyDelete
  6. Thanks you very much for sharing these tips. i liked It

    ReplyDelete
  7. Medam meri ankhon mein jalan Hoti hai or ankhon se Pani Nikal ne par palko ke niche Pani lag ne par jalan or soojan ajati hai

    ReplyDelete